You are currently viewing टीवी का आविष्कार किसने , कब और कहा किया जाने पूरा इतिहास

टीवी का आविष्कार किसने , कब और कहा किया जाने पूरा इतिहास

Rate this post

टीवी नामक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस को सबने इस्तेमाल किया होगा और आपके घर में होगा भी लेकिन क्या आपको यह पता है कि टीवी का अविष्कार किसने किया (tV ka avishkar kisne kiya) . आज के समय में टीवी के कितने प्रकार है और मानव जीवन में टीवी की महत्वपूर्ण भूमिका।

टीवी या टेलीविजन हमारे मनोरंजन का एक साधन है। पहले के समय में जब टीवी नहीं हुआ करता था तब लोग नाटक और गानों से मनोरंजन किया करते थे उसके बाद टेलीविजन का आविष्कार हुआ और अब हर घर में हमें टीवी देखने को मिलता है। आज के समय में तो सैकड़ो टीवी चैनल है और अगर सबसे पुराने टीवी की बात करे तो उसका नाम दूरदर्शन था।

जो हमें दूर के प्रतिबिंब को गति करते हुए तस्वीर दिखाती है इसलिए इसे “दूरदर्शन” के नाम से भी जाना जाता है। टेलीविजन का सफर काफी लंबा रहा है। इसके आविष्कार से लेकर अब तक टेलीविजन के रंग रूप में काफी बदलाव आए हैं। तो चलिए इस लेख के माध्यम से टेलीविजन के इतिहास , अविष्कार और प्रकार के बारे में परिचित होते हैं।

tV ka avishkar kisne kiya

टेलीविजन का आविष्कार साल 1926 में लोगीं बेयर्ड ने किया था। उन्होंने इसका पहला प्रदर्शन लंदन में किया था। इसी के साथ Philo Taylor Farnsworth, Charles Francis Jenkins ने भी TV के आविष्कार में अपना महत्वपूर्ण योगदान किया था

लेकिन तीनों व्यक्तियो ने अलग अलग प्रकार की TV बनाया था जिसमें मेकेनिकल टीवी, इलेक्ट्रॉनिक कलर टीवी और इलेक्ट्रॉनिक टीवी शामिल है। आज के समय में टीवी सभी लोगों के घरों में दिखाई देता है जो जितना अमीर होता है उसके घर पर उतना ही महंगा और अच्छी ब्रांड और क्वालिटी का टेलीविजन देखने को मिलता है।

सबसे पहले के समय में टीवी का नाम Televisor रखा गया था लेकिन समय के साथ बदलती तकनीकी और एडवांस फ़ीचर आने के कारण इसका नाम बदल कर टेलीविजन कर दिया गया । जॉन लोगी बेयर्ड ने साल 1925 में सर्वप्रथम मेकेनिकल tv को बनाया था उस समय यह लोगों के लिए एक नए प्रकार का मनोरंजन साधन बन चूका था। दुनिया में आने वाला यह अविष्कार यह लोग को खुब पसंद आया उसके बाद फिलों टेलर फर्नवर्थ ने साल 1927 में इलेक्ट्रॉनिक TV का आविष्कार किया ।

रंगीन टीवी का अविष्कार किसने और कब किया था

प्रारंभिक और साधारण टेलीविजन आविष्कार के बाद लगातार इसमें विकास होते गए । रंगीन टीवी को सबसे पहले 1940 ईस्वी में जॉन बेयर्ड की कंपनी ने तैयार किया था जिसे साल 1946 में दुनिया में प्रस्तुत किया गया। साल 1948 में लाखों की संख्या में रंगीन टीवी को अमेरिका में बेचा गया था। बात करे भारत में रंगीन टीवी के आगमन की तो साल 1982 में एशियाई खेलों के प्रसारण के साथ सबसे पहले भारत में रंगीन टीवी को शुरू किया गया था।

भारत में टेलीविजन का सफ़र

अभी तक आपने जाना की टीवी का अविष्कार किसने कियाb( tV ka avishkar kisne kiya) अब आप जानेंगे की भारत में टेलीविजन का सफ़र कब शुरू हुआ। भारत में टेलीविजन का सफर 20वीं शताब्दी से शुरू हुआ है। 15 सितंबर 1959 को ऑल इंडिया रेडियो के अंतर्गत भारत में टेलीविजन की शुरुआत हुई और टीवी का पहला ऑडिटोरियम आकाशवाणी भवन में बनाया गया था जो 5 मंजिल पर था।

इस भवन का उद्घाटन भारत के पहले राष्ट्रपति डॉ राजेंद्र प्रसाद जी ने किया था। शुरुआत में भारत में टेलीविजन पर सप्ताह में एक 1 घंटे के लिए दिन में दो बार सड़क , यातायात , नागरिक , स्वास्थ्य, अधिकार, कर्तव्य जैसे विभिन्न विषयों पर प्रोग्राम चलाए जाते थे। उसके बाद 1972 ईस्वी में अमृतसर और मुंबई में भी टेलीविजन का प्रसारण शुरू हुआ।

साल 1975 तक भारत में 7 शहरों में टेलीविजन सेवा की शुरुआत हो चुकी थी। 1982 में भारत में कलर टीवी भी आ चुका था और 80 के दशक के अंत में तो रामायण , महाभारत जैसे कई प्रतिष्ठित शो ने भारत में टेलीविजन का एक अलग ही दौर उत्पन्न कर दिया था।

टीवी के कितने प्रकार है

अभी तक आपने जाना की टीवी का अविष्कार किसने किया (tv ka avishkar kisne kiya) . उम्मीद करते है की अभी तक आर्टिकल आपको पसंद आया होगा। नीचे अब हम आपको टीवी के अलग अलग प्रकार और टेक्नोलॉजी के बारे बताने वाले है।

LCD TV ( Liquid Crystal Display )

LCD TV का फुल फॉर्म लिक्विड क्रिस्टल डिस्प्ले होता है। इन प्रकार के टीवी को CRT टीवी से अच्छा माना जाता है। यह टीवी थोड़े पतले होते हैं पुराने टेलिविजन की तुलना में LCD TV का वजन भी कम होता है। LCD TV लोगों की पहली पसंद होती है। आप LCD TV को घरों की दीवार और टेबल पर आसानी से लगा सकते हैं।

CRT TV ( cathode ray tube )

पुरानी समय में ज्यादातर घरों में इस प्रकार के TV देखने को मिलते थे। इस तरह के टीवी साइज बड़े और भारी होते थे जिन्हे एक स्थान से दुसरे स्थान ले जाना थोड़ा मुश्किल होता था. इस प्रकार की टेलीविजन की अंदर वैक्यूम ट्यूब इस्तेमाल होता था। वैक्यूम ट्यूब से निकल कर इलेक्ट्रॉन बीम फॉस्फोरसेंट से कोटेड स्क्रीन पर टकराने के बाद स्क्रीन पर पिक्चर दिखाई देती थी। इसी कारण इस टेलीविजन का नाम भी CRT TV कर दिया गया था। आज के समय में इस तरह के टीवी का इस्तेमाल बहुत कम होता है ।

LED TV ( Light-Emitting Diodes )

LED TV आज के समय में एडवांस टीवी माना जाता है जिसका पूरा नाम लाइट एमिटिंग डायोड होता है। एलईडी टीवी LCD टीवी का ही एक प्रकार है जिसके बैक साइड में पिक्चर को डिस्प्ले करने के लिए छोटी छोटी लाखो से अधिक LED लाइट का इस्तेमाल किया जाता है। LED टीवी वजन में हल्के और स्लिम होते हैं इसकी पिक्चर क्वालिटी भी अन्य टीवी के मुकाबले काफी बेहतर होती है।

Plasma TV

प्लाजमा टीवी की बनाने की शुरुआत साल 1990 से की गई थी यह दूसरो टीवी के मुकाबले काफी बेहतर माना जाता था । इन प्रकार के TV की स्क्रीन फ्लैट में होती है. प्लाज्मा टीवी की स्क्रीन बड़े स्क्रीन में देखने को मिलती है .एक प्लाज्मा स्क्रीन कई छोटी सेल्स से बनी होती है जिसमें नोडल गैस और थोड़ी मात्रा में मरकरी (पारा) भरा होता है।

ये सेल कांच के दो टुकड़ों के बीच होती हैं, और जब सेल के माध्यम से करंट फ्लो होता है, तो ये गैसे और अल्ट्रा वॉइलेट रे (UV) , में बदल कर फॉस्फर सल्ल से होकर गुजरती है जिससे स्क्रीन पर एक चित्र बनता है।

OLED TV

आज के मॉर्डन टेलेविज़न में आपको LED और OLED टेक्नोलॉजी देखने को मिलेगी। OLED का पूरा नाम ऑरगैनिक लाइट एमिटिंग डायोड होता है। यह अभी के समय की सबसे एडवांस और लेटेस्ट टेक्नोलॉजी वाली टीवी होती है।

OLED स्क्रीन का इस्तेमाल लेटेस्ट और महंगे मोबाइल ब्रांड जैसे की सोनी , सैमसंग , गूगल , एप्पल में इस्तेमाल किया जाने लगा है। OLED स्क्रीन LED की तुलना में अधिक पतले , हल्के और अच्छी पिक्चर क्वालिटी वाली टीवी होती है। दुनिया में सबसे पहला OLED का टीवी सोनी कंपनी ने 2004 में लांच किया था लेकिन अब के समय में सभी ब्रांड्स इस तरह की टीवी का निर्माण करने लगे है।

टीवी से जुडी कुछ रोचक जानकारी

  • रंगीन टीवी का प्रसारण साल 1939 में सबसे पहले अमेरिका में हुआ था।
  • करोड़ों लोगों ने पहली बार साल 1969 में चंद्रमा पर मानव लैंडिंग का लाइव प्रसारण टेलिविजन पर देखा था
  • जी नेटवर्क भारत का पहला निजी चैनल है यह पहली बार साल 1999 में स्टार्ट नेटवर्क के साथ एक समझौते में अलग हो गया था और उसके बाद यह चैनल प्रख्यात हो गया।
  • टेलीविजन के महत्व को उजागर करने के लिए हर साल 21 नवंबर को विश्व टेलीविजन दिवस के रूप में मनाया जाता है।

टीवी का मानव जीवन के साथ संबंध

Tv मानव जीवन के लिए एक चमत्कारी आविष्कार है। टीवी हमें देश और समाज के प्रति जागरुक करने का कार्य करता है। टीवी एक ऐसा साधन है जिससे हम अपने इंट्रेस्ट के अनुसार चैनल लगा कर मनोरंजन के साधन जुटा सकते है। टीवी ने पूरी दुनिया के रहन – सहन , खान- पान , संस्कृत आदि को एक प्लेटफार्म पर दिखाने का कार्य करता है। आज के समय में लोग डिजिटलीकरण से पूरी तरीके से जुड़ चुके हैं ऐसे में स्मार्ट टीवी ने मानव जीवन को पूरी तरीके से बदल दिया है।

टीवी के अविष्कार ने जहा एक चमत्कारी कार्य किये है तो वही इसका मानव जीवन , समाज पर बुरा असर भी देखने को मिलता है , पहले से समय में लोग अपने फ्री समय को परिवार और समाज के साथ बिताते थे जिससे रिश्ते मजबूत बनाते थे लेकिन टेलेविज़न और इंटरनेट ने व्यक्ति को परिवार और समाज से अलग कर दिया है। लोग मनोरंजन के लिए टीवी का इस्तेमाल करते है जिससे व्यक्ति के विज़न और सोच में गहरा असर डालती है

सम्बंधित जानकारी

स्मार्ट टीवी खरीदने से पहले जाने ये जरूरी बातें

अच्छे कैमरा और स्टाइलिश डिज़ाइन के साथ 15000 तक के सबसे अच्छे मोबाइल

siya

नमस्कार ! मै Simi Kaithal इस वेबसाइट का owner और Founder हु। हम इस वेबसाइट में एक प्रोफेशनल ब्लॉगर की तरह कार्य करते है , जहा पर रीडर को Technical Blogging , web Development ,SEO, Software , GK एवं अन्‍य जानकारी दी जाती है । इस वेबसाइट का पूर्ण मकसद अधिक से अधिक लोगो को फ्री में जानकारी देना है। किसी भी प्रकार के सवाल या डाउट जिसका अभी तक हल न मिला हो बेझिझक हमसे पूछ सकते है ।

Leave a Reply