शिक्षा का महत्व क्या है? जीवन में शिक्षा के महत्व पर निबंध, भाषण 

शिक्षा का महत्व क्या है? जीवन में शिक्षा के महत्व पर निबंध, भाषण 

5/5 - (1 vote)

पैसे कमाने के तो हजारों तरीके होते हैं लेकिन अगर इज्जत कमानी हो तो शिक्षित होना बहुत जरूरी होता है। शिक्षित लोग स्वयं के जीवन का उत्थान तो करते ही हैं साथ ही वे समाज और राष्ट्र के निर्माण में भी बड़ी भूमिका निभाते हैं। जिस देश में जितने अधिक लोग शिक्षित होते हैं, उस देश के विकास की सम्भावनाएँ भी उतनी ही अधिक होती हैं। शिक्षा ही गरीबी,बेरोजगारी को दूर करने और जीवन शैली में सुधार लाने का सबसे महत्वपूर्ण साधन है।इन सभी बातो को समझते हुए आज हमने शिक्षा के महत्त्व के बारे में विस्तार से बताने वाले है। इस लेख में आप जानेंगे की जीवन में shiksha ka mahatva क्या है शिक्षा क्यों जरूरी है, इसका उद्देश्य क्या है, लाभ और शिक्षा का महत्व पर निबंध, भाषण कैसे लिखे।

प्रस्तावना

रंगभेद के खिलाफ बड़ी लड़ाई लड़ने वाले महापुरुष नेल्सन मंडेला ने shiksha ka mahatva समझाते हुए ठीक ही कहा था, “दुनिया को बदलने के लिए शिक्षा ही सबसे शक्तिशाली हथियार है।” शिक्षा की बदौलत ही लोगों में बुद्धि और तर्कसंगत निर्णय लेने की क्षमता बढती है, वे आत्मनिर्भर बन पाते हैं, उनके व्यक्तित्व का विकास हो पाता है और वे जागरूक नागरिक बन पाते हैं। इससे स्वयं का , समाज का और देश का भला होता है।

आज हमारे भारत देश में सभी को शिक्षा मिल सके इसके लिए हम सब को मिलकर शैक्षिक जागरूकता फैलाने की बहुत जरूरत है। देश में शिक्षा के स्तर को बढ़ाने के लिए सरकार द्वारा “सर्व शिक्षा अभियान ” और अन्य कई स्कीम चलाती है जिन्हे सफल बनाने में हमें मदद करनी चाहिये।

shiksha ka mahatva

शिक्षा का अर्थ और परिभाषा 

इस शिक्षा शब्द का अर्थ होता है ‘ज्ञान।’ स्कूल में पढ़ना-लिखना सीखना, समाज, देश और दुनिया का ज्ञान प्राप्त करना शिक्षा के अंतर्गत आता है। कॉलेज, विश्वविद्यालय या अन्य संस्थानों जैसे कोचिंग आदि से विभिन्न क्षेत्रों में ज्ञान प्राप्त करना या कोई भी कौशल सीखने (Skill) आदि को शिक्षा प्राप्त करना कहते हैं।

शिक्षा को प्राचीन भारत में ‘विद्या’ कहा जाता था जिसका अर्थ भी ‘ज्ञान’ होता है। और शिक्षा को इंग्लिश में Education कहा जाता है। इस एजुकेशन शब्द की उत्पत्ति लैटिन शब्द Educationem से हुई है जिसका अर्थ होता है प्रशिक्षण। मानव समाज में शिक्षा कई हजार वर्षों से कई अलग-अलग तरीको से दी जाती रही है। कई विद्वानों से शिक्षा की परिभाषाएं दी हैं जैसे:

  • आचार्य चाणक्य के अनुसार ‘शिक्षा के बिना मानव जीवन अधूरा है। एक शिक्षित व्यक्ति कार्य को सफलता पूर्वक कर सकता है, परन्तु जिसके पास ज्ञान नहीं वह सरल से सरल कार्य को भी नहीं कर पायेगा।’
  • महान दार्शनिक सुकरात के अनुसार शिक्षा की परिभाषाशिक्षा का अर्थ हर मनुष्य के मस्तिष्क में अदृश्य रूप से विद्यमान संसार के सर्वमान्य विचारों को प्रकाश में लाना है।
  • सुकरात के शिष्य प्लेटो के अनुसार शिक्षा की परिभाषा‘शिक्षा से मेरा मतलब उस प्रशिक्षण से है जिसकी मदद से अच्छी आदतों के द्वारा बालकों में नैतिकता का विकास होता है।’ 

शिक्षा क्यों जरूरी है

एक खुशहाल जीवन जीने के लिए शिक्षा बहुत ही जरूरी है। स्कूली शिक्षा, पढना-लिखना और नैतिक मूल्य जैसे दूसरो से अच्छा व्यवहार करना, सच बोलना, बड़ों आदर और सम्मान करना आदि चीजें सिखाती है। कौशल और उच्च शिक्षा आपको अच्छा रोजगार उपलब्ध कराती है।

शिक्षित व्यक्ति बदलते समय के साथ कदम से कदम मिला कर आसानी से चल सकता हैं जबकी अशिक्षित व्यक्ति आज के बदलते दौर में पीछे रह जाते हैं। शिक्षित लोगों को कभी भी दूसरों के सामने शर्मिन्दगी का सामना नहीं करना पड़ता है जबकी हमारे समाज में अनपढ़ व्यक्ति को लोग एक अलग ही नजर से देखते हैं। शिक्षित व्यक्ति को समाज में आदर और सम्मान से देखा जाता है ।

एक शिक्षित व्यक्ति को जीवन में आगे बढ़ने के अधिक मौके मिलते हैं।  शिक्षा, समाज में फैली कुरीतियों और अंधविश्वासों को मिटाने में मदद करती है। हर एक व्यक्ति के जीवन में शिक्षा बेहद जरूरी है। आज के शिक्षित बच्चे ही देश का भविष्य बन सकते हैं। शिक्षित माता-पिता, अपने बच्चों को भी शिक्षित करते हैं। लड़कियाँ पढ़-लिख कर आय के स्त्रोत के साथ साथ देश और समाज में अपनी अलग छवि प्रस्तुत करती है। उनकी सफलता से समाज में अन्य लड़कियों को शिक्षा प्राप्त करने की प्रेरणा भी मिलती है।

जीवन में शिक्षा का महत्त्व 

शिक्षा का महत्त्व आज सभी लोग अच्छे से समझने लगे हैं। इसीलिए आज सभी वर्ग के लोग अपने बच्चों को पढ़ा लिखा कर अफसर बनाने का सपना देखता है। shiksha ka mahatva समझने के लिए आपको नीचे बताये गए कुछ पॉइंट्स को अच्छे से समझने की जरुरत है।

  • गरीबी हटाना – शिक्षा गरीबी उन्मूलन में मदद करती है। एक शिक्षित व्यक्ति अच्छी नौकरी प्राप्त करके या व्यवसाय करके अपने परिवार की सभी मूलभूत आवश्यकताओं को पूरा कर पाता है।
  • अपराध के खिलाफ सुरक्षा – एक सुशिक्षित व्यक्ति को आसानी से धोखा नहीं दिया जा सकता है या वह किसी भी अपराध का शिकार आसानी से नहीं बन सकता है।  धोखा धड़ी या अपराध होने पर न्याय के लिए कानून और समाज का सहारा ले सकता है।
  • आत्मविश्वास – शिक्षा आत्म-निर्भर बनने में मदद करती है एक शिक्षित के पास सेल्फ कॉन्फिडेंस रहता है जिसकी मदद से वह सही निर्णय और कार्य को पूरी ईमानदारी से कर सकता है।
  • जीवन स्तर में सुधार – शिक्षा प्राप्त करने पर जीवन शैली में सुधार होता है। शिक्षा आपको अच्छी नौकरी के साथ साथ रोजगार के अन्य कई साधन जुटाने में मदद करती है। एक शिक्षित व्यक्ति अपने घर और परिवार के रहन सहन , व्यवहार आदि को ऊंचा उठाने का हमेशा प्रयास करता है।
  • महिला सशक्तिकरण – शिक्षा महिलाओं को सशक्त बनाने में मदद करती है। महिलाएं निडर होकर अपने अधिकार की मांग कर सकती है और अन्याय के खिलाफ समाज में आवाज उठा सकती हैं। वे आत्मनिर्भर हो सकती हैं और उन्हें किसी पर निर्भर होने की आवश्यकता नहीं है। महिला सशक्तिकरण से समाज के साथ-साथ देश का भी विकास होता है।
  • आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग का उत्थान – दुनिया को बदलने के लिए शिक्षा सबसे महत्वपूर्ण साधन है। अनपढ़ व्यक्ति समाज में व्याप्त भेदभाव, छुआछूत और अन्याय जैसी समस्याओ से उभर नहीं पाता हैं। जबकी शिक्षा के बल पर, कमजोर वर्ग अपने जीवन की गुणवत्ता में सुधार ला सकता है। यदि देश में शिक्षा का स्तर उच्च रहेगा तो समाज में फैली कुरुतियां , अन्धविश्वाश , जातिप्रथा जैसी समस्याओ ख़त्म हो जाएगी।
  • संचार – संचार शिक्षा से संबंधित है। अच्छी शिक्षा दूसरों के साथ बेहतर संवाद करने में मदद करती है। यह हमारे कौशल जैसे बोलने के तरीके, भाषण, बॉडी लैंग्वेज इत्यादि में भी सुधार करती है। शिक्षित व्यक्ति अपने बात करने के तरीके और व्यवहार से दुसरो को आकर्षित कर सकता है।
  • राष्ट्र का विकास – जो देश अपने नागरिकों को शिक्षित करने पर ध्यान केंद्रित करते हैं और उच्च शिक्षा की व्यवस्था करते हैं, वे देश आर्थिक और सामाजिक रूप से विकसित होते है। देश में जितने लोग शिक्षित होंगे उस देश में नई टेक्नोलॉजी , रिसर्च का स्तर उतना उचा होगा।
  • व्यक्तित्व विकास – एक शिक्षित व्यक्ति समाज में अपनी एक अलग छवि रखता है । उसकी पर्सनालिटी और व्यव्हार अन्य लोगों हमेशा आकर्षित करते है। शिक्षित व्यक्ति दूसरो के सामने अपनी बात जल्दी से समझा सकता है और अपने कार्यो को सरल तरीके से कराने में सक्षम होता है।  
  • सफलता – शिक्षा हमारी मानसिकता को सकारात्मक दिशा में ले जाने में मदद करती है और इस मानसिकता से लोग अपने जीवन को बेहतर बना सकते हैं। शिक्षा से व्यक्ति किसी भी कार्य में सफलता पाने के अनेको तरीके खोज सकता है

भारतीय शिक्षा का इतिहास और विकास

भारतीय प्राचीन काल में शिक्षा को बहुत अधिक महत्व दिया गया था। उस समय भारत ‘विश्वगुरु’ कहलाता था। पहले के समय में शिक्षा प्राप्त करने के लिए गुरुकुल हुआ करते थे। वैदिक समय में विद्यार्थी, गुरुकल में वेदमंत्र कंठस्थ करते थे, ब्रह्मचर्य की शिक्षा लेते थे और साहित्य, ज्योतिष, चिकित्साशास्त्र, गणित, जीवविज्ञान, राजनीति, अर्थशास्त्र आदि का ज्ञान प्राप्त करते थे। भारत में काशी, तक्षशिला, नालंदा, विक्रमशिला जैसे विश्वविद्यालय हुआ करते थे जहाँ विदेशों के लोग भी ज्ञान प्राप्त करने आते थे। प्राचीन भारत में शिक्षा का उद्देश्य व्यक्ति के शारीरिक, बौद्धिक और अध्यात्मिक विकास था। 

इसके बाद बौद्धकालीन शिक्षा में नैतिक चरित्र के विकास, बौद्ध धर्म के प्रचार प्रसार, दर्शन, चिकित्सा, सैनिक कला, गणित आदि की शिक्षा पर जोर दिया गया। इस समय बौद्ध मठों में शिक्षा दी जाती थी।

भारत में मुगलों के शासन के समय मस्जिदों में ‘मकतब’ की व्यवस्था होती थी, जिसमें लड़के-लड़कियाँ प्रारंभिक शिक्षा ग्रहण करते थे। इसके बाद मदरसों में उच्च शिक्षा होती थी। इसी समय इस्लाम धर्म का प्रचार प्रसार हुआ।  मुगलों के समय फारसी, हिन्दी, संस्कृत, उर्दू का विकास हुआ। 

अंग्रेजों के शासन के दौरान विद्यालयों में ईसाई धर्म की शिक्षा के साथ साथ इतिहास, भूगोल, व्याकरण, गणित, साहित्य आदि विषय भी पढ़ाए जाते थे। इस समय अंग्रेजी और पश्चिमी विषयों के अध्ययन और अध्यापन पर जोर दिया गया। भारत में आधुनिक शिक्षा प्रणाली की नींव 1835 में लार्ड मैकाले के सुझाव पर पड़ी, इसीलिए आधुनिक शिक्षा का जनक लार्ड मैकाले को माना जाता है। 

आधुनिक युग में शिक्षा का महत्व

आज के समय में दुनिया बहुत तेजी से बदल रही है। हर रोज नई-नई तकनीकों का विकास हो रहा है। ऐसे में इस आधुनिक समय में shiksha ka mahatva और अधिक बढ़ता जा रहा है। शिक्षा के बदौलत ही लोग मोबाइल, कम्प्यूटर और अन्य टेक्नोलॉजी का आसानी से इस्तेमाल कर पाते हैं। आज आधुनिक शिक्षा का उद्देश्य लोगों में कौशल का विकास करना (Skill Development), तकनीकी शिक्षा देना, अधिक से अधिक रोजगार उपलब्ध कराना और स्वरोजगार के अवसर पैदा करना होता हैं।

शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए सरकार द्वारा उठाए गए कदम

shiksha ka mahatva समझते हुए कोई भी सरकार इसे अनदेखा नहीं कर सकती है। भारत सरकार ने भी शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार लेन के लिए कई सकारात्मक पहल किये हैं।

  • सरकार ने 4 अगस्त सन 2009 को शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 पारित किया। यह अधिनियम 1 अप्रैल 2010 को लागू हुआ, जिसके तहत शिक्षा, भारत में प्रत्येक बच्चे का मौलिक अधिकार बन गया है। भारत में 6-14 वर्ष के आयु वर्ग के बच्चों को मुफ्त शिक्षा प्रदान करता है। 
  • सर्व शिक्षा अभियान, मध्याह्न भोजन, कौशल विकास योजना, छात्रवृत्ति योजना, प्राथमिक शिक्षा में लड़कियों की शिक्षा के लिए राष्ट्रीय कार्यक्रम, कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय योजना, बेटी बचाओ-बेटी पढाओ जैसी कई योजनायें भारत सरकार के द्वारा शिक्षा पर बल देने के लिए चलाई गयी हैं।
  • नई शिक्षा नीति 2020 – 29 जुलाई 2020 को सरकार के द्वारा भारत की राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 (एनईपी 2020), लाई गयी। यह शिक्षा पर पिछली राष्ट्रीय शिक्षा नीति 1986 की जगह लेती है। इस नई शिक्षा नीति का उद्देश्य सभी को ऐसी उच्च गुणवत्ता वाली शिक्षा प्रदान करना है जो भारत को बदलने में योगदान दे सके , जिससे भारत ज्ञान के क्षेत्र में वैश्विक महाशक्ति बन सके। 

इस आर्टिकल में हमने शिक्षा के महत्त्व पर विस्तार रूप से समझाने का प्रयास किया। यदि आप स्वयं , घर , समाज और देश का पूर्ण रूप से विकास चाहते है तो इसके लिए आपको आधुनिक shiksha ka mahatva समझना बहुत जरूरी है। देश में शिक्षा के स्तर को बढ़ाने के लिए सरकार का सहयोग देना चाहिए और समाज को जागरूक करना चाहिए।

सम्बंधित जानकारी

सरल शब्दों में नारी शिक्षा के महत्व पर निबंध

अनुशासन क्या है ? मनुष्य के जीवन में अनुशासन का महत्व है

लोगो से बातचीत करने का सही तरीका क्या होना चाहिए

siya

नमस्कार ! मै Simi Kaithal इस वेबसाइट का owner और Founder हु। हम इस वेबसाइट में एक प्रोफेशनल ब्लॉगर की तरह कार्य करते है , जहा पर रीडर को Technical Blogging , web Development ,SEO, Software , GK एवं अन्‍य जानकारी दी जाती है । इस वेबसाइट का पूर्ण मकसद अधिक से अधिक लोगो को फ्री में जानकारी देना है। किसी भी प्रकार के सवाल या डाउट जिसका अभी तक हल न मिला हो बेझिझक हमसे पूछ सकते है ।

Leave a Reply